Breaking
Ad
Ad
Ad
Author

admin

Browsing

Budget 2019 live updates: पीयूष गोयल पेश कर रहे हैं अंतरिम बजट, पढ़ें अपडेट्स

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) आज अंतरिम बजट (budget 2019 live updates) पेश करेंगे। चुनावी साल होने के चलते उनके बजट पिटारे में हर वर्ग के लिए कुछ न कुछ होने की उम्मीद लगाई जा रही है। बजट में किसानों के लिए कर्ज की रकम में बढ़ोतरी और ब्याज में कटौती का प्रस्ताव हो सकता है। संभावना यह भी है कि गरीब परिवारों एवं बेरोजगारों के लिए न्यूनतम मासिक आय जैसी योजना की भी घोषणा की जा सकती है।

इसके साथ ही मध्यम वर्ग के लिए इस बजट में कर से राहत की पूरी उम्मीद है। यही नहीं, महिलाओं को मातृत्व अवकाश के दौरान होने वाली आमदनी को कर मुक्त करने पर भी मंत्रालय ने विचार किया है। सरकार घर खरीदने वालों के लिए ब्याज में मिलने वाली छूट का बजट भी बढ़ा सकती है। जानकारों के मुताबिक, चुनावी मौके पर सरकार इस अंतरिम बजट में किसी को निराश करने जैसे ऐलान नहीं करेगी।

अंग्रेजी में अंतरिम बजट से जुड़े लाइव अपडेट्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Union budget 2019 live updates, interim budget 2019 live updates यहां पढ़ें: 

10:58 AM- मोदी कैबिनेट ने अंतरिम बजट 2019-20 को मंजूरी, कुछ देर में होगा पेश

10:44 AM- मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, लोकसभा चुनाव को देखते हुए यह बजट लोकलुभावन योजनाओं वाला बजट होगा। उन्होंने अभी तक जो बजट पेश किए हैं उनसे जनता को क्या लाभ हुआ है। उन्होंने कहा कि आज सिर्फ ‘जुमले’ ही आएंगे। उनके पास योजनाओं को लागू करने के लिए सिर्फ 4 महीने है?

10:30 AM-  केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह और रविशंकर प्रसाद संसद भवन पहुंचे।

View image on TwitterView image on TwitterView image on Twitter

10:25 AM- मनोज सिन्हा बोले, सरकार ने जिस तरह से सीसीटीवी कैमरे, वाईफाई जैसी सुविधाएं शुरू कर रेलवे में निवेश बढ़ाया है। उससे मुझे पूरा भरोसा है कि आगे भी रेलवे में निवेश लगातार बढ़ेगा।

– 9: 15 AM- संसद परिसर में लाई गईं बजट की कॉपियां, सुबह 11 बजे अंतरिम बजट पेश करेंगे पीयूष गोयल

– 9:00 AM- संसद में अंतरिम पेश होने से पहले कैबिनेट की बैठक होगी। यह जानकारी न्यूज एजेंसी एएनआई ने दी।

– 8:45 AM- केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल वित्त मंत्रालय पहुंचे

– 8:35 AM- वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा, मोदी सरकार एक लोकप्रिय सरकार है। यह स्वाभाविक है कि हम सभी चीजों का ध्यान रखेंगे। हम लोगों के लिए जो संभव होगा वह करेंगे। हमने हमेशा एक अच्छा बजट पेश किया है।

पहली बार जेटली अनुपस्थित

केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार के बनने के बाद पहला मौका होगा, जब अरुण जेटली केंद्रीय बजट पेश नहीं करेंगे। वह बीमार हैं और इलाज के लिए इस समय अमेरिका में हैं। इसलिए उनकी जगह वित्तमंत्रालय का प्रभार देख रहे गोयल बजट भाषण देंगे।

सियासत: पीएम नरेंद्र मोदी के लिए पुरी सीट छोड़ सकता है BJD

Prime Minister Narendra Modi addresses the media at parliament for a budget session in New Delhi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के ओडिशा (Odisha) की पुरी संसदीय सीट से चुनाव लड़ने को लेकर चल रही अटकलों के बीच राज्य के प्रमुख दल, बीजद ने भी जवाबी रणनीति की तैयारी शुरू कर दी है। अगर मोदी पुरी से चुनाव लड़ते हैं तो बीजद उनके खिलाफ अपना उम्मीदवार नहीं उतारने पर विचार कर सकता है। बीजद इसे राज्य के व्यापक विकास के परिप्रेक्ष्य में रखकर देखेगा। पुरी सीट अभी बीजद के पास है।

बीजद से जुड़े सूत्रों ने कहा, हालांकि प्रधानमंत्री के पुरी से चुनाव लड़ने को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। सिर्फ इतना भर है कि राज्य भाजपा संगठन ने अनुरोध भेजा है कि प्रधानमंत्री वहां से चुनाव लड़ें। तभी से ये चर्चाएं चल रही हैं। लेकिन अगर प्रधानमंत्री पुरी या ओडिशा की किसी अन्य सीट से चुनाव लड़ने के लिए तैयार होते हैं तो बीजद उस स्थिति में अपनी रणनीति लागू करेगा। पिछले चुनाव में ओडिशा की 21 में से 20 सीटें बीजद ने जीती थीं। जबकि एक सीट भाजपा ने जीती थी।

गुजरात:भाषण देते हुए अचानक क्यों रुके PM मोदी,जानिए उनकी 10 बड़ी बातें

बीजद के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, मोदी यदि चुनाव लड़ने के लिए ओडिशा आते हैं तो यह राज्य के लिए फायदेमंद होगा। उनके दोबारा प्रधानमंत्री बनने पर राज्य के विकास के लिए बड़े ऐलान हो सकते हैं। ओडिशा को केंद्र से ज्यादा मदद की जरूरत है। इसलिए दल इसे सकारात्मक रूप से ले सकता है। बीजद मोदी के खिलाफ अपना उम्मीदवार नहीं उतारने का निर्णय भी ले सकता है। उसके लिए राज्य का विकास सर्वोपरि है।

परीक्षा पे चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने लिया PUBG का नाम, 10 खास बातें

दरअसल, पुरी से प्रधानमंत्री के चुनाव लड़ने के पक्ष में कई बातें कही जा रही हैं। एक, इससे जहां ओडिशा में भाजपा के लिए अच्छा माहौल बनेगा, वहीं पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर के चुनावों से भी इसे जोड़कर देखा जा रहा है। हिंदी क्षेत्र में सीट कम होने की संभावना के चलते भाजपा के लिए पूर्वी हिस्से ज्यादा अहम हो गए हैं। इसलिए भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री के पुरी से चुनाव लड़ने की अटकलों को पूरी तरह से खारिज नहीं किया गया है। हालांकि वाराणसी से मोदी के दोबारा चुनाव लड़ने की पुष्टि पार्टी की तरफ से की जा चुकी है। लेकिन दूसरी सीट वडोदरा होगी या पुरी या फिर कोई और, यह अभी साफ नहीं है।

राहुल गांधी ने मनोहर पर्रिकर की चिट्ठी का दिया जवाब, कहा- पर्रिकर जी, पीएम के दबाव की वजह से आपने मुझ पर साधा निशाना

पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को लिखे जवाबी पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि उन्होंने उनके साथ हुई कोई निजी बातचीत साझा नहीं की है बल्कि राफेल मामले से जुड़ीं वही बातें की हैं जो पहले से सार्वजनिक पटल पर हैं.

राहुल गांधी ने मनोहर पर्रिकर की चिट्ठी का दिया जवाब, कहा- पर्रिकर जी, पीएम के दबाव की वजह से आपने मुझ पर साधा निशाना 

राहुल गांधी ने मनोहर पर्रिकर के खत का दिया जवाब

नई दिल्ली: शिष्टाचार मुलाकात का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे के लिए करने संबंधी पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के आरोप को खारिज करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि पर्रिकर ने दबाव में आकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वफादारी दिखाने के लिए उन्हें (राहुल) निशाना बनाया है. पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को लिखे जवाबी पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि उन्होंने उनके साथ हुई कोई निजी बातचीत साझा नहीं की है बल्कि राफेल मामले से जुड़ीं वही बातें की हैं जो पहले से सार्वजनिक पटल पर हैं. राहुल गांधी ने कहा कि मनोहर पर्रिकर जी, मैं यह सुनकर आहत हूँ कि अपने मुझे कोई पत्र लिखा और इसे मुझे पढ़ने का मौका मिलने से पहले ही मीडिया में लीक कर दिया. उन्होंने कहा कि सम्मान के साथ कहना चाहता हूँ कि मेरा आपके यहां दौरा पूरी तरह निजी था. निःसन्देह आपको यह याद होगा कि जब अमेरिका में आपका उपचार चल रहा था तब भी मैंने आपकी सेहत के बारे में जानने के लिए संपर्क किया था.

‘राफेल के राज’ सबंधी टिप्‍पणी के बाद गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से मिले राहुल गांधी


कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि बहरहाल, मैं एक जनप्रतिनिधि हूँ. राफेल सौदे में एक भ्रष्ट प्रधानमंत्री की बेईमानी को लेकर उन पर हमला करने का मेरा अधिकार है. मैंने वही बातें कहीं हैं जो पहले से ही सर्जनिक पटल पर हैं. मैंने हमारी मुलाकात के दौरान हुई बातचीत से जुड़ी कोई जानकारी साझा नहीं की है. गांधी ने कहा कि मुझे आपकी स्थिति से हमदर्दी है, मैं समझता हूं कि कल की हमारी मुलाकात के बाद आप पर कितना दबाव है. दबाव की वजह से आपको प्रधानमंत्री और उनके साथियों के प्रति वफादारी दिखाने के लिये अव्यवहारिक ढंग से मुझपर निशाना साधने का असामान्य कदम उठाना पड़ा.

पर्रिकर से मुलाकात के बाद बोले राहुल गांधी- उन्होंने मुझे बताया उनका नए राफेल सौदे से कोई लेना-देना नहीं

राहुल गांधी ने पर्रिकर के जल्द सेहतमंद होने की कामना की. बता दें कि पिछले काफी अर्से से बीमार चले रहे गोवा के मुख्यमंत्री पर्रिकर ने बुधवार को राहुल गांधी पर आरोप लगाया था कि उन्होंने ‘शिष्टाचार भेंट’ का इस्तेमाल तुच्छ राजनीतिक फायदे के लिये किया और उन दोनों के बीच पांच मिनट की मुलाकात में राफेल मुद्दे का कोई जिक्र नहीं हुआ था. कांग्रेस अध्यक्ष को लिखे पत्र में मनोगक पर्रिकर ने कहा था कि 29 जनवरी को बिना किसी पूर्व सूचना के आप मेरे स्वास्थ्य का हाल पूछने मेरे यहां आए थे. दलगत भावना से ऊपर उठकर एक अस्वस्थ व्यक्ति का हाल जानना अच्छी परंपरा है.आपके आने पर मैने आपका स्वागत  स्वास्थ्य एवं बीमारी के प्रति आपकी अच्छी भावना के संदर्भ में किया. लेकिन आज सुबह समाचार पत्रों में जिस ढंग से  आपके ‘विजिट’ को लेकर बयान प्रकाशित हुए हैं, उन्हें पढ़कर मुझे आश्चर्य भी हुआ और आहत भी हूं. आपने कहा कि बातचीत में मैने आपको बताया है कि राफेल की प्रक्रिया में मैं कहीं नहीं था मुझे कोई जानकारी नहीं थी.मेरे लिए यह अत्यंत निराशाजनक और आहत करने वाली बात है कि मेरे स्वास्थ्य का हाल जानने के बहाने आपने अपने निम्न स्तरीय राजनीतिक हितों को साधने का कार्य किया है. उसकी मैं कल्पना भी नहीं कर पा रहा हूं.

पर्रिकर से मुलाकात के बाद बोले राहुल गांधी- उन्होंने मुझे बताया उनका नए राफेल सौदे से कोई लेना-देना नहीं

5 मिनट की भेंट में राफेल का जिक्र तक न हुआ
मनोहर पर्रिकर ने राहुल गांधी से कहा कि आपसे पांच मिनट की भेंट में न राफेल का जिक्र हुआ था और न ही मैने राफेल संबंधी कोई चर्चा की थी. उन 15 मिनट में इस संबंध में कोई चर्चा नहीं हुई. इस तरह की कोई बात मेरी और आपके बीच न तो हाल की मीटिंग में हुई थी और न ही पहले कभी हुई. पर्रिकर ने कहा था कि मैं फिर स्पष्ट कर रहा हूं कि राफेल सौदे में दूर-दूर तक कोई गड़बड़ी नहीं हुई है. पर्रिकर ने लिखा था कि शिष्टाचार भेंट के बहाने मेरे घर आकर, फिर इतने निम्न स्तर का झूठ आधारित राजनीतिक बयान देना आपके मेरे मेरे घर आने के उद्देश्यों को उजागर करता है.मैने सोचा था कि आपका आना और आपकी शुभकानाएं मेरे लिए इस प्रतिकूल स्थिति में संबल प्रदान करेंगी लेकिन ैं नीं समझ सका कि आपके आने का वास्तविक इरादा यह था.

कांग्रेस के सवालः 11 महीने से बीमार मनोहर पर्रिकर कैसे बने हुए हैं गोवा के मुख्यमंत्री

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से विधानसभा परिसर में मुलाकात कर उनकी तबीयत के बारे में पूछा था. 63 वर्षीय पर्रिकर अग्नाशय संबंधी बीमारी से पीड़ित हैं. यह मुलाकात ऐसे समय में हुई जब एक दिन पहले ही राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि ”गोवा ऑडियो टेप” प्रामाणिक हैं और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के पास इस मुद्दे से जुड़े ”धमाका करने वाले राज” हैं. कांग्रेस ने इस टेप का हवाला देते हुए राफेल मुद्दे पर केंद्र पर हमला किया था.

 ‘राफेल के राज’ सबंधी टिप्‍पणी के बाद गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से मिले राहुल गांधी

गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा के संबोधन के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित होते ही राहुल गांधी दोपहर के करीब विधानसभा परिसर पहुंचे. कांग्रेस के विधायकों ने राज्यपाल के अभिभाषण का बहिषकार किया. वहां पहुंचने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने विधानसभा परिसर में मुख्यमंत्री के चैम्बर में उनसे मुलाकात की. इसके बाद वह कांग्रेस विधायकों से 10 मिनट मुलाकात करने के बाद वहां से चले गये।    कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्रकारों से बात करने से इनकार कर दिया और कहा कि उन्हें देरी हो रही है.

गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर नए साल पर पहुंचे सचिवालय

राहुल गांधी के साथ पर्रिकर से मिलने पहुंचे गोवा विधानसभा में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर ने कहा, “यह पर्रिकर की तबीयत जानने के लिये हुई शिष्टाचार मुलाकात थी. उनका हाल-चाल जानने के अलावा कोई और बातचीत नहीं हुई.” राहुल गांधी अपनी मां सोनिया गांधी के साथ गोवा के निजी दौरे पर हैं. गोवा के नगर एवं ग्राम नियोजन मंत्री विजय सरदेशाई ने कांग्रेस प्रमुख के पर्रिकर से मुलाकात को राजनीति में सकारात्मक घटनाक्रम बताया. कांग्रेस अध्यक्ष के विधानसभा परिसर से जाने के बाद सरदेशाई ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैंने मुख्यमंत्री से पूछा था. उन्होंने मुझसे कहा था कि चार पांच बार राहुल गांधी ने उनके (पर्रिकर के) बेटे को फोन कर तबीयत के बारे में पूछा था.’   उन्होंने कहा, ‘‘राजनीति में यह सकारात्मक घटनाक्रम है. देश में राजनीतिक नेतृत्व अपने प्रतिद्वंद्वियों के स्वास्थ्य और उनकी सेहत को लेकर भी फिक्रमंद है, यह ऐसी चीज है जिसकी सराहना की जानी चाहिए.’.

Budget 2019: Check date, time; all you need to know

The Lok Sabha and the Rajya Sabha will have total 10 sittings and the Budget session of the Parliament will continue till February 13, 2019

Budget 2019: Check date, time; all you need to know

The Union Government will be presenting the Interim Budget for the fiscal year 2019-20 on Februrary1, Friday.  Ministry of Finance made it official on January 30 that the upcoming budget will be ‘Interim Budget 2019-20’. In the absence of Finance minister Arun Jaitley  who has gone to US for medical treatment,  the Interim Budget will be presented by Cabinet minister Piyush Goyal.

You can follow the exclusive coverage of Budget 2019 on BusinessToday.In . Here’s everything you need to know including date, time, procedure about the Interim Budget 2019 :

Important dates:  On January 31, a day before the final presentation of Interim Budget, Parliament will begin ‘Budgent Session’ at 11 am . The Lok Sabha and the Rajya Sabha will have total 10 sittings and the Budget session of the Parliament will continue till February 13, 2019.

The Question Hour will be held from February 4 to 8 and on February 8, discussion on private member’s bill will take place.

Timings: On the Budget Day, the Finance Minister will deliver the speech around 11 am in the Parliament.

Interim Budget: Traditionally, a year in which general elections are scheduled, the outgoing government presents the Interim Budget. The Interim Budget is similar to regular budget as the central government presents a full financial statement-its expenditure, receipts and projections for the fiscal year.

Budget is prepared by Ministry of Finance, department of economic affairs, after the consultation from all the other ministries. The last Interim Budget was presented on February 17, 2014 by then Finance Minister P Chidambaram.The interim budget is followed by full-budget by new incoming government following the elections. On September 21, 2016, Modi government ended the 92-year-old practice of presenting Railway and Union Budget separately and approved the merger of both the Budgets. Till 2016, the Railway Budget was presented a few days before the Union Budget.

Earlier, till 1999 the Union Budget was announced at 5 pm on the last working day opf Feb, however, Ex- finance minter Yashwant Sinha changed this ritual by announcing the budget at 11 am. On January 21st, Minister of State for Finance  jointly kicked off the ‘Halwa Ceremony’ to mark the beginning of printing of documents, officially relation to 2019 interim budget.

IPL performance should not be considered for spot in India’s World Cup squad, reckons Mohinder Amarnath

Former Indian cricketer Mohinder Amarnath has issued a warning to selectors ahead of the 2019 World Cup and advised them to not consider IPL form when picking the squad for the marquee event.

Indian squad for 2019 World Cup

The Indian team is currently playing a five-match series against New Zealand   |  Photo Credit: AP

The Indian Premier League has over the years produced a number of exceptionally talented Indian players. Some of the players, who rose to fame from the tournament are currently a part of the Indian national team and are performing extremely well on the biggest stage. With the IPL 2019 scheduled to be staged right before the ICC World Cup 2019, a number of players would hope to bag a spot in the World Cup squad with their impressive show in the IPL, however former Indian cricketer Mohinder Amarnath is strictly against the idea and believes that the selection should not be influenced by IPL form.

India are left with a few ODI games with the World Cup around the corner. The IPL for both youngsters and veterans like Yuvraj Singh, Suresh Raina and Ajinkya Rahane among others will be a perfect platform to prove their mettle and strike a claim for a spot in the World Cup squad. But Amarnath, who played 69 Tests and 85 ODI matches for India, believes only the performance in the international arena should be taken into consideration.

 

 

“Yes, the IPL will be played in between but players’ form in this tournament should not be taken into consideration when the team is being selected for the Cup. It should be on the basis of what they have achieved in the international arena,” Amarnath wrote in his column for Times of India.

The Indian team is currently playing some phenomenal cricket across formats having defeated Australia in the Test series to claim their maiden Test series win on Australia soil before winning ODI series against Aussies and New Zealand in their own backyard. Virat Kohli and his men have proved their dominance overseas in the past few months, a positive sign ahead of the showpiece event.

Amarnath hailed Kohli & Co’s triumph in Australia and New Zealand and rated the preparation for the World Cup as fantastic while adding that the selectors will have headaches when selecting the final squad for the marq uee event in England and Wales.

“Overall, this is fantastic preparation for the upcoming World Cup. India have tried out quite a few players and they’ve all done well. So the selectors are going to have a bit of a headache while choosing the final squad for England. However, they must remember that after the Australian series in India, there will be a gap of a couple of months before the World Cup begins,” Amarnath wrote.

बजट से पहले अखिलेश यादव ने साधा सरकार पर कुछ इस तरह से निशाना

Samajwadi Party chief Akhilesh Yadav hits before presenting budget 2019. (File Pic)

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने मोदी सरकार के अंतिम बजट पेश करने से पहले सरकार पर निशाना साधा है। सपा प्रमुख ने केन्द्र पर हमला बोलते हुए कहा- “जब हर क्षेत्र में देश गया घट, तो क्या करोगे ला कर बजट। तैयार हो जाइए आनेवाला है झूठ का पुलिंदा, जिसमें ‘सच’ को छोड़कर सब कुछ होगा…। ”

गौरतलब है कि केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल कुछ देर बाद संसद में बजट पेश करने जा रहे हैं। सरकार ने पहले ही यह साफ कर दिया है कि यह वित्तवर्ष 2019-20 का पूर्ण बजट नहीं होगा। इसके बावजूद चुनावी साल होने की वजह से विभिन्न वर्ग सौगातों की उम्मीद कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली की अनुपस्थिति में वित्तमंत्रालय का प्रभार संभाल रहे गोयल सुबह 11 बजे लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद स्पीकर की आज्ञा से अपना बजट भाषण देंगे।

सूत्रों के अनुसार, लोकसभा चुनाव से पहले पेश होने वाले अंतरिम बजट में किसानों और मध्यम वर्ग को लुभाने के लिए उन्हें कई रियायतें दी जा सकती है। किसान देश की आबादी में 60 प्रतिशत की हिस्सेदारी रखते हैं और उसके बाद मध्यम वर्ग सबसे बड़ा वर्ग है। इसलिए, माना जा रहा है कि सरकार का इन दोनों वर्गों पर जोर रहेगा।

Porsche Taycan gets 3 years free charging – and it’s super-fast

Porsche Taycan gets 3 years free charging – and it’s super-fast

Porsche Taycan buyers will get three years of free charging with their new sports EV sedan, as the German automaker ramps up to take on Tesla. While Porsche may not have a self-branded Supercharger-style network of its own to offer Taycan drivers, it does have access to Electrify America, and it’s making full use of that.

Electrify America is, after all, owned by Volkswagen Group. The growing cross-country charging network was established as part of VW’s dieselgate mea culpa, but is starting to look like a very good idea no matter the origin story. It will deliver considerably more powerful charging stations than Tesla Superchargers currently offer.

Taycan drivers in the US will, when the car goes on sale later this year, get three years of Electrify America charging bundled in with the EV’s sticker price. Each charging session will be 30 minutes long, and there’ll be no limit on how many times drivers can access the Electrify America chargers. While half an hour may not sound much, it’s actually enough for a surprising amount of range given the juice being delivered.

Electrify America highway stations, for instance, will have at least two 350 kW chargers per site. They’ll also be accompanied by a number of other chargers offering up to 150 kW. Metro stations, meanwhile, will have up to 150 kW chargers.

With a 350 kW, and the 800 volt technology that Porsche has used on the Taycan, drivers will be able to add more than 60 miles of range every four minutes. Highway locations are at most 120 miles from each other on Electrify America’s plan, while nationally the distance between stops is expected to be on average 70 miles.

It won’t just be Electrify America points that Taycan drivers can use, however. Porsche is kicking off a huge dealer charger upgrade, with all 191 locations across the US also adding DC fast charging support. Of that number, more than 120 will install Porsche Turbo Charging compatible equipment, which delivers up to 320 kW. The others will get 50 kW chargers.

Finally, there’ll be home charging. Porsche isn’t talking about what package it’ll be offering Taycan buyers, though it’s worth noting that Volkswagen Group stablemate Audi has inked a deal with Amazon on easier purchase and installation of Level 2 domestic chargers. That’s expected to cost in the region of $1,000 but include not only the charger but all the installation fees too. We wouldn’t be surprised if Porsche considered doing something similar.

Since the Taycan uses a standard combined charging system (CCS) connector, of course, drivers won’t be limited to just these chargers. That’ll be important in the early days, as Electrify America rolls out its network. 484 locations with more than 2,000 charging points installed or under construction are expected to be in place by July 1, with “hundreds” more from July 2019 as it kicks off its second phase.

That suggests there’ll be a reasonable number of places for Taycan owners to charge up when the car arrives in late 2019. Pricing is yet to be confirmed, though dealers are already taking reservations, and not in insignificant numbers. Porsche is reportedly planning to double production to meet demand.

Kia Motors commences trial production at Andhra plant

This important step not only signifies the completion of the 536-acre plant but also marks the arrival of Kia’s new flagship car for India, the Kia SP2i, a new SUV based on the Kia SP concept, first showcased at auto expo 2018, Kia Motors said in a statement.

    

South Korean auto maker Kia Motors on Tuesday said it has commenced trial production at its manufacturing facility at Anantapur in Andhra Pradesh.

This important step not only signifies the completion of the 536-acre plant but also marks the arrival of Kia’s new flagship car for India, the Kia SP2i, a new SUV based on the Kia SP concept, first showcased at auto expo 2018, Kia Motors said in a statement.

The trial production of the SP2i will enable Kia to synchronise and fine-tune the brand’s manufacturing equipment and technologies before series production commences later this year, it added.

“India will play a singularly important role in expanding Kia Motors global footprint, and today feels like the start of another chapter in our Indian success story,” Kia Motors Corporation President and CEO Han-Woo Park said.

Commencing trial production is a significant moment that the company has been preparing for as it takes on the challenges of future mobility across the country, he added.

The Anantapur facility has an installed annual production capacity of up to 3 lakh units. Kia and its vendors are investing USD 2 billion on the facility.

Martyrs’ Day 2019: Remembering Mahatma Gandhi’s Teachings On Non-Violence

Mahatma Gandhi Death Anniversary: Prime Minister Narendra Modi, delivering his first ‘Mann Ki Baat’ address of 2019, had urged everyone to pay a 2-minute tribute to the martyrs on the death anniversary of Mahatma Gandhi on January 30 observed as Martyrs’ Day.

Martyrs' Day 2019: Remembering Mahatma Gandhi's Teachings On Non-Violence

Death Anniversary Of Mahatma Gandhi 2019: Mahatma Gandhi was assassinated on January 30, 1948.

NEW DELHI: Mahatma Gandhi, the father of the nation and the tallest hero of India’s independence, died on this day, that is January 30, back in 1948. On January 30 today, India will mark the death anniversary of Mahatma Gandhi as Martyrs’ Day, credited significantly for uniting several streams in India’s freedom movement with non-violence. Assuming leadership of the Indian National Congress in 1921, Mahatma Gandhi led nationwide campaigns for various social causes and for achieving Swaraj, or self-rule. Mahatma Gandhi, the man who led India to freedom from the oppressive British colonial rule, was assassinated on January 30, 1948 at the age of 78. Nathuram Godse, a Hindu fanatic, was found guilty of murdering him and was executed the following year. Earlier this week, Prime Minister Narendra Modi, delivering his first ‘Mann Ki Baat’ address of 2019, had urged everyone to pay a 2-minute tribute to the martyrs on the death anniversary of Mahatma Gandhi on January 30. On Mahatma Gandhi’s death anniversary, also observed as Martyrs’ Day or Shaheed Diwas, here is one of his most renowned concepts of struggle– non-violence.

Mahatma Gandhi made a conscious choice to search for nonviolent alternatives to take forward India’s struggle for independence. He is credited to be a leader who used non-violence as a political tool and means to achieve a political goal. The weapons that Mahatma Gandhi used in his struggle to independence were innovative methods to unite masses to stand up non-violently against the oppressive British colonialists. What makes this so unusual is how Mahatma Gandhi did not use counter violence as a method of resistance, but only non-violence. He believed that violence only resulted in a ‘temporary’ good. Former South Africa President Nelson Mandela had even said once: “A hundred years ago Gandhi became the first person of colour to practise law in Johannesburg. Gandhi’s offices and the old courts are long gone. But here too, Gandhi paved the way for others.”

The Salt Satyagraha March, better known as ‘Dandi March’, was a landmark event in the freedom struggle. As part of the civil disobedience movement against the British rule, 80 Satyagrahis led by Gandhi marched 241 miles from Sabarmati Ashram in Ahmedabad to the coastal village of Dandi and made salt from sea water, thus breaking the Salt Law imposed by the British.

Refusing to toe the government’s stand that he required security, Mahatma Gandhi had told authorities that he would leave Delhi if protection was insisted upon, Kalyanam, who was secretary to the father of the nation, said. Although there were warnings to Mahatma Gandhi from the government– several weeks ahead of his assassination– that he faced threat to his life, he told the authorities that he does not want security. “Had Gandhiji agreed to have security, people might have been frisked and his assassination could have been averted,” Mr Kalyanam told news agency PTI.

COMMENT

With these thoughts, let’s remember Mahatma Gandhi and his values on Martyrs’ Day and always strive to take our nation forward based on this foundation.

Gautam Gambhir picks his Indian squad for 2019 World Cup

Former cricketer and a member of the World Cup-winning team, Gautam Gambhir picks his 15-member squad for the upcoming ICC World Cup 2019

 

Gautam Gambhir,2019 World Cup

Former cricketer and a member of the World Cup-winning team, Gautam Gambhir on Monday picked his 15-member squad for the upcoming ICC World Cup 2019, beginning on May 30.

The left-handed batsman had most of the names on the expected lines. With the likes of wicketkeepers MS Dhoni and Dinesh Karthik in the team, Gambhir omitted Rishabh Pant from his predicted list.

In the bowling unit, Gambhir picked Ravichandran Ashwin ahead of Ravindra Jadeja, who last featured in the Asia Cup after Hardik Pandya was ruled out due to an injury.

 

The team also features cricketers Hardik Pandya, who returned to the ODI squad against New Zealand, and KL Rahul, who has joined India A for one-day series against England Lions, following the lift of suspension which was imposed in the wake of their misogynistic remarks at a celebrity chat show Koffee with Karan.

Gambhir’s Indian squad for World Cup 2019: Rohit Sharma, Shikhar Dhawan, KL Rahul, Virat Kohli, MS Dhoni, Ambati Rayudu, Kedar Jadhav, Dinesh Karthik, Hardik Pandya, Bhuvneshwar Kumar, Jasprit Bumrah, Mohammed Shami, Ravichandran Ashwin, Yuzvendra Chahal, Kuldeep Yadav.