Breaking
Ad
Ad
Ad
Sports

हैदराबाद टेस्ट / विंडीज से दूसरा मैच कल से, घरेलू मैदान पर लगातार 10वीं सीरीज जीतने उतरेगा भारत

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr

हैदराबाद टेस्ट / विंडीज से दूसरा मैच कल से, घरेलू मैदान पर लगातार 10वीं सीरीज जीतने उतरेगा भारत

India vs West Indies preview, news and updates

 

 

  • 2012 से भारत घरेलू मैदान पर कोई टेस्ट नहीं हारा, इस दौरान नौ सीरीज जीता
  • पिछली बार 2012 में उसे इंग्लैंड ने चार टेस्ट की सीरीज में 2-1 से हराया था
  • विंडीज के खिलाफ इस सीरीज में भारत पहला टेस्ट जीतकर सीरीज में 1-0 से आगे

खेल डेस्क. भारत और वेस्टइंडीज के बीच दो मैच की सीरीज का दूसरा टेस्ट 12 अक्टूबर से हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में खेला जाएगा। भारत ने राजकोट में खेला गया पहला टेस्ट 272 रन से जीता था। हैदराबाद टेस्ट को जीतकर या ड्रॉ कराकर टीम इंडिया घरेलू मैदान पर लगातार 10वीं टेस्ट सीरीज जीतना चाहेगी। पिछली बार 2012 में उसे इंग्लैंड ने चार टेस्ट की सीरीज में 2-1 से हराया था। इसके बाद से भारत ने आठ देशों के खिलाफ नौ सीरीज खेले और सभी जीते, जिसमें दो बार ऑस्ट्रेलियाई टीम शामिल है।

विंडीज से लगातार सातवीं सीरीज जीतने उतरेगी टीम इंडिया

  1. भारतीय टीम 1983 से अपने घरेलू मैदान पर विंडीज से सीरीज नहीं हारी। तब से पांच सीरीज हुए, जिसमें टीम इंडिया तीन जीती। इस दौरान कुल 15 टेस्ट खेले गए, जिसमें भारत आठ और वेस्टइंडीज दो जीता। वहीं, पांच टेस्ट ड्रॉ रहे। भारतीय टीम विंडीज के खिलाफ लगातार सातवीं सीरीज जीतना चाहेगी। मुकाबला ड्रॉ रहने पर भी भारत 1-0 से सीरीज जीत लेगा।
  2. वेस्टइंडीज की टीम पिछले 16 साल से भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज नहीं जीत सकी। इस दौरान दोनों के बीच 19 टेस्ट हुए, जिसमें भारत 10 जीता और 9 ड्रॉ रहा। वेस्टइंडीज पिछली बार अपने घरेलू मैदान पर 2002 में सीरीज जीता था।virat kohli
  3. मयंक का 50 से अधिक का औसत

    16 साल वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज नहीं हारा भारत

    साल कहां हुआ कितने टेस्ट की सीरीज जीत का अंतर
    2016 वेस्टइंडीज 4 2-0
    2013 भारत 2 2-0
    2011 भारत 3 2-0
    2011 वेस्टइंडीज 3 1-0
    2006 वेस्टइंडीज 4 1-0
    2002 भारत 3 2-0
  4. राहुल की जगह खेल सकते हैं मयंक

    भारतीय टीम इस टेस्ट में ओपनिंग में एक बदलाव कर सकती हैं। पहले टेस्ट में शून्य पर आउट हुए केएल राहुल की जगह मयंक अग्रवाल को डेब्यू करने का मौका मिल सकता है। राहुल इंग्लैंड दौरे पर भी पांच टेस्ट में सिर्फ एक शतक ही लगा सके थे। इस दौरान दस पारियों में सिर्फ एक ही बार 40 का आंकड़ा पार किया था।

  5. मयंक का 50 से अधिक का औसत

    मयंक का घरेलू क्रिकेट में प्रदर्शन शानदार रहा है। उन्होंने 43 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं। इनमें उन्होंने 50.32 की औसत से 3372 रन बनाए हैं। उनका हाइएस्ट 304* है। उन्होंने पिछली छह पारियों में 54.83 की औसत से 329 रन बनाए हैं। इसमें उनके भारतीय अध्यक्ष एकादश की ओर से खेलते हुए वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाए गए 90 रन भी शामिल हैं।

  6. राहुल ने मयंक के मुकाबले आधी औसत से रन बनाए

    वहीं, राहुल ने अब तक 30 टेस्ट खेले हैं। उनके 37.72 की औसत से 1811 रन हैं। इसमें पांच शतक भी शामिल हैं। इस दौरान वे छह बार बिना खाता खोले पवेलियन लौटे हैं। राहुल ने इस साल नौ टेस्ट खेले। उन्होंने 16 पारियां खेलीं, जिनमें 23.94 की औसत से एक शतक समेत 383 रन ही बना पाए। इस दौरान वे आठ बार 10 या इससे कम रन ही बना पाए।

  7. सिराज को मिल सकती है आखिरी 11 में जगह

    राजकोट टेस्ट में भारत के बल्लेबाजों और गेंदबाजों दोनों का प्रदर्शन शानदार रहा। रविचंद्रन अश्विन और कुलदीप यादव ने 6-6 विकेट लिए। वहीं रविंद्र जडेजा ने चार, मोहम्मद शमी ने दो और उमेश यादव ने एक विकेट हासिल किया। उमेश यादव पूरे टेस्ट के दौरान सिर्फ 14 ओवर ही गेंदबाजी की। वे अपनी गेंदों से विपक्षी बल्लेबाजों को बहुत परेशान भी नहीं कर पाए थे।

  8. ऐसे में दूसरे टेस्ट में उमेश के मुकाबले पिछले पांच फर्स्ट क्लास मैच में 40 विकेट झटकने वाले मोहम्मद सिराज पर टीम प्रबंधन भरोसा जता सकता है। दाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज 20 फर्स्ट क्लास मैच में 97 विकेट हासिल किए हैं। उनका बेस्ट 8/59 है। हैदराबाद सिराज का घरेलू मैदान भी है। वे वहां की पिच और परिस्थितियों से अच्छे से परिचित भी हैं।
  9. कुलदीप पूरे कर सकते हैं 100 अंतरराष्ट्रीय विकेट

    यह मैच कुलदीप यादव के करियर का पांचवां टेस्ट होगा। वे चार टेस्ट में अब तक 15 विकेट ले चुके हैं। उनके पास अपने 100 अंतरराष्ट्रीय विकेट पूरे करने का मौका होगा। कुलदीप ने टेस्ट में 15 विकेट लेने के अलावा, 29 वनडे में 58 और 12 टी-20 में 24 विकेट लिए हैं, यानी उनके खाते में 97 अंतरराष्ट्रीय विकेट हैं। यदि हैदराबाद टेस्ट में वे तीन विकेट लेते हैं तो यह संख्या 100 हो जाएगी।

  10. भारतीय टीम: विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे (उप-कप्तान), लोकेश राहुल, पृथ्वी शॉ, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, हनुमा विहारी, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, मोहम्मद सिराज, शार्दुल ठाकुर।
  11. वेस्टइंडीज टीम: जेसन होल्डर (कप्तान), सुनील एम्ब्रीस, देवेंद्र बिशू, क्रेग ब्रैथवेट, रोस्टोन चेज, शेन डाउरिच, शेनोन गेब्रियल, जहमर हैमिल्टन, शिम्रोन हेटमेयर, शाई होप, शेर्मन लेविस, कीमो पॉल, कीरन पॉवेल, केमार रोच, जोमेल वारिकन।

Write A Comment