Ad
Ad
Ad
Information

मुंबई / विजय माल्या देश का पहला भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित, विशेष अदालत का फैसला

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr

मुंबई / विजय माल्या देश का पहला भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित, विशेष अदालत का फैसला

 

Vijay Mallya 1st Fugitive economic Offender declared by special PLMA court,properties can be confiscated by government
  • प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग कोर्ट ने माल्या को भगोड़ा घोषित किया
  • प्रवर्तन निदेशालय ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून-2018 के तहत कोर्ट से अपील की थी
  • माल्या पर 17 भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया
  • माल्या पर मनी लॉन्ड्रिंग, टैक्स नहीं चुकाने के भी आरोप

मुंबई. विजय माल्या (62) को प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) अदालत ने शनिवार को भगोड़ा घोषित कर दिया। भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून-2018 के तहत माल्या पहला अपराधी है जिसे भगोड़ा घोषित किया गया है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इसकी अपील की थी। माल्या की संपत्तियां जब्त करने को लेकर 5 फरवरी को सुनवाई होगी।

 

माल्या पर भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। एसबीआई के नेतृत्व वाले 17 बैंकों के कंसोर्शियम ने माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस को लोन दिया था। माल्या लोन नहीं चुका पाया और मार्च 2016 में लंदन भाग गया। माल्या पर मनी लॉन्ड्रिंग और टैक्स चोरी के भी आरोप हैं। ईडी के साथ सीबीआई और आयकर विभाग भी माल्या के खिलाफ आरोपों की जांच कर रहा है।

 

 

कोर्ट के फैसले के बाद पीएमओ के राज्य मंत्री जीतेंद्र सिंह ने कहा, कांग्रेस, जो मोदी सरकार पर विजय माल्या को बचाने का आरोप लगा रही थी, अब कहां है? कांग्रेस, देश में हो रहे सकारात्मक विकास को लगातार गलत साबित करने का प्रयास करती रही। अब वो कहां छुप रही है?

 

माल्या ने ईडी की याचिका को चुनौती दी थी

ईडी ने पिछले साल जुलाई में पीएमएलए अदालत से अपील की थी कि माल्या को नए कानून (भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून-2018) के तहत भगोड़ा घोषित किया जाए। साथ ही माल्या की 12,500 करोड़ रुपए की संपत्तियां जब्त करने की इजाजत भी मांगी थी। माल्या ने ईडी की याचिका पर सुनवाई नहीं करने की अपील की थी। लेकिन, कोर्ट ने 30 अक्टूबर को इसे खारिज कर दिया। ईडी की याचिका के खिलाफ माल्या बॉम्बे हाईकोर्ट भी पहुंचा था लेकिन वहां भी उसकी अपील खारिज हो गई।

माल्या के खिलाफ 6 आरोप

आरोप जांच एजेंसी
मनी लॉन्ड्रिंग प्रवर्तन निदेशालय (ईडी)
लोन की रकम डायवर्ट सीबीआई
किंगफिशर एयरलाइंस में वित्तीय अनियमितताएं एसएफआईओ
शेयरों की राउंड ट्रिपिंग सेबी
सर्विस टैक्स नहीं चुकाया आयकर विभाग
विल्फुल डिफॉल्टर डेट रिकवरी ट्रिब्यूनल, बेंगलुरु

 

माल्या पर इन 5 बैंकों का सबसे ज्यादा कर्ज

बैंक लोन (रुपए)
एसबीआई 1600 करोड़
आईडीबीआई बैंक 800 करोड़
पीएनबी 800 करोड़
बैंक ऑफ इंडिया 650 करोड़
बैंक ऑफ बड़ौदा 550 करोड़

 

26 दिन में माल्या को दूसरा झटका

लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत 10 दिसंबर को यह फैसला दे चुकी है कि माल्या को भारत प्रत्यर्पित किया जाए। अदालत ने मामला ब्रिटिश सरकार को भेज दिया था। वहां की सरकार अदालत के फैसले से संतुष्ट होती है तो वह माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश जारी करेगी। ऐसा होता है तो माल्या के पास 14 दिन में हाईकोर्ट में अपील का अधिकार होगा।

माल्या ने अगर प्रत्यर्पण के फैसले के खिलाफ अपील नहीं की तो यूके की सरकार के आदेश जारी करने के 28 दिन में उसका प्रत्यर्पण किया जाएगा।

 

माल्या ने दिया था कर्ज चुकाने का ऑफर
प्रत्यर्पण पर फैसला आने से 5 दिन पहले माल्या ने ट्वीट कर भारतीय बैंकों और सरकार से अपील की थी कि वह 100% कर्ज चुकाने को तैयार है। उसका प्रस्ताव मान लिया जाए। माल्या ने कहा था “नेता और मीडिया मेरे डिफॉल्टर होने और सरकारी बैंकों से लोन लेकर भागने की बात जोर-शोर से कह रहे हैं। यह गलत है। मेरे साथ सही बर्ताव क्यों नहीं होता? 2016 में जब मैंने कर्नाटक हाईकोर्ट में सेटलमेंट का प्रस्ताव रखा था तो इसका प्रचार क्यों नहीं किया गया?”

 

क्या है भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून ?

 

  • वित्तीय घोटाला कर रकम चुकाने से इनकार करने वालों पर इस कानून के तहत कार्रवाई की जा सकती है।
  • आर्थिक अपराध में जिनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया हो उन पर कार्रवाई का प्रावधान है।
  • 100 करोड़ रुपए से ज्यादा के लोन डिफॉल्टर्स पर कार्रवाई की जा सकती है।
  • भगोड़े आर्थिक अपराधियों की संपत्तियां बेचकर भी कर्ज देने वालों की भरपाई का प्रावधान है।
  • कानून के मुताबिक, किसी आरोपी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने के लिए संबंधित एजेंसी को विशेष अदालत में याचिका देनी होती है। आरोपी के खिलाफ पर्याप्त सबूतों के साथ उसके पते-ठिकानों और संपत्तियों का ब्यौरा भी शामिल होता है।
  • जब्त किए जाने योग्य बेनामी संपत्तियों और विदेशी संपत्तियों की सूची भी देनी पड़ती है। साथ ही उसमें संपत्तियों से जुड़े अन्य लोगों की जानकारी भी शामिल होती है।
  • आवेदन मिलने के बाद स्पेशल कोर्ट आरोपी को 6 हफ्ते के अंदर पेश होने के लिए नोटिस जारी करता है।

 

अक्टूबर 2012 में किंगफिशर एयरलाइंस बंद हुई

  • मार्च 2012 में माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस ने यूरोप और एशिया के लिए फ्लाइट्स बंद कर दीं। घरेलू बाजार में किंगफिशर हर दिन 340 फ्लाइट्स ऑपरेट करती थी, उन्हें घटाकर 125 कर दिया गया। लेकिन यह फॉर्मूला 8 महीने भी नहीं चला। अक्टूबर 2012 में किंगफिशर की सारी फ्लाइट्स बंद हो गईं।
  • साल 2013-14 तक एयरलाइंस का घाटा बढ़कर 4,301 करोड़ रुपए हो चुका था। इसी साल माल्या दुनिया के टॉप-100 अमीरों की लिस्ट से बाहर हो गया। लोन के प्रिंसिपल अमाउंट पर ब्याज बढ़ता गया। मार्च 2016 तक माल्या 9,000 करोड़ रुपए का कर्जदार हो गया और विदेश भाग गया।

Write A Comment