Breaking
Ad
Ad
Ad
Information

देवउठनी एकादशी 2018: आज है तुलसी विवाह, व्रत करने से मिलता है भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr

देवउठनी एकादशी 2018: आज है तुलसी विवाह, व्रत करने से मिलता है भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद

vishnu

आज है देवउठनी ऐकादशी, भगवान विष्णु के निंद्रा से जागने का दिन। इस दिन भगवान विष्णु की आराधना का बहुत महत्व है। इस एकादशी पर व्रत करने से बैकुंठ की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि आज के दिन भगवान विष्णु निंद्रा से जाग जाते हैं और मांगलिक कार्यों की शुरूआत होती है। सभी देवों ने भगवान विष्णु को चार मास की योग निद्रा से जगाने के लिए घंटा, शंख, मृदंग आदि की मांगलिक ध्वनि के साथ श्लोकों का उच्चारण किया था।

इस एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा से जन्म जन्मांतर के पाप समाप्त हो जाते हैं। व्रत करने से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है और घर में समृद्धि आती है। भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी के साथ इस दिन तुलसी जी का शालिग्राम से विवाह भी कराया जाता है।

देवउठनी एकादशी 2018 आज: इसलिए होती है शालीग्राम और तुलसी की शादी, पढ़ें ये कथा

होता है तुलसी विवाह

देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह किया जाता है। इस दिन तुलसी जी का विवाह शालिग्राम से किया जाता है। अगर किसी व्यक्ति को कन्या नहीं है और वह जीवन में कन्या दान का सुख प्राप्त करना चाहता है तो वह तुलसी विवाह कर प्राप्त कर सकता है।

श्री हरि की पूजा से मिट जाएंगे पाप, तुलसी-शालिग्राम विवाह से आएंगी खुशियां

तुलसी पूजा से घर में संपन्नता आती है तथा संतान योग्य बनती है। इस दिन आंवला, सिंघाड़े का भोग लगाया जाता है।  विवाह के समय तुलसी के पौधे को आंगन, छत या पूजास्थल के बीचोंबीच रखें। तुलसी का मंडप सजाने के लिए गन्ने का प्रयोग करें। विवाह के रिवाज शुरू करने से पहले तुलसी के पौधे पर चुनरी जरूर चढ़ाएं। गमले में शालिग्राम रखकर चावल की जगह तिल चढ़ाएं। तुलसी और शालिग्राम पर दूध में भीगी हल्दी लगाएं। अगर विवाह के समय बोला जाने वाला मंगलाष्टक आपको आता है तो वह अवश्य बोलें।

ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं  पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया  गया है

Write A Comment